स्लॉट मशीनों का एल्गोरिथ्म और संचालन प्रणाली

“आर्य्टोम उस्टिनोव
ऑनलाइन स्लॉट्स कैसे काम करते हैं? यह सवाल एक खिलाड़ी के दिमाग में आ सकता है जब वह ये सोचता है की किस कसीनो को खेलने के लिए चुनना है। यह वास्तविक है क्योंकि स्लॉट मशीनों का काम विभिन्न मिथकों से घिरा हुआ है, जैसे कि एक निश्चित समय पर खेलने से जीतने की संभावना बढ़ जाती है। उन्हें दूर करने और आम तौर पर आपके ऑनलाइन कसीनो की विश्वसनीयता बढ़ाने के लिए, यह जानना काफ़ी काम का है कि वास्तव में ऑनलाइन स्लॉट्स कैसे काम करते हैं। ये लेख इस मुद्दे को स्पष्ट करने के लिए है।

प्रीहिस्ट्री

इंटरनेट के युग से पहले, स्लॉट मशीनें इलेक्ट्रोमैकेनिकल थीं और इनमें एक विशेष ब्रेकिंग सिस्टम के साथ-साथ सेंसर भी थे, जो होने वाले संयोजन का विश्लेषण करते थे।

बाद में इलेक्ट्रोमैकेनिकल उपकरणों को इलेक्ट्रिकल से बदल दिया गया। उनके पास एक इलेक्ट्रिक बिल्ट-इन इंजन था, इसलिए खिलाड़ियों को अब खेलने के लिए हैंडल नहीं खींचना पड़ता था। हालांकि, सेंसर पुराने सिद्धांत पर ही काम करते थे।

अब भौतिक स्लॉट मशीनों को कम्प्यूटरीकृत किया जाता है, और कुछ संयोजन रैंडम नंबर जनरेटर या आर.एन.जी की वजह से होते हैं। ऑनलाइन स्लॉट्स में भी इसी प्रणाली का उपयोग किया जाता है।


रैंडम नंबर जेनरेटर (आर.एन.जी) क्या है

रैंडम नंबर जेनरेटर एक प्रोग्राम है जो एक निश्चित एल्गोरिदम द्वारा काम करता है और यह निर्धारित करता है कि स्क्रीन पर कौन सा संयोजन दिखाई देगा। यह एक बिल्कुल अनियमित प्रक्रिया है जिसका परिणाम न तो कसीनो ऑपरेटर, न ही खिलाड़ी या खेल के निर्माता को पता चल सकता है।

भले ही पहले बने गेमिंग उपकरणों के बनने के बाद काफ़ी प्रगति हो चुकी है, लेकिन रैंडम नंबर जेनरेटर के सिद्धांत और विश्वसनीयता अभी भी वही है। आधुनिक गेमिंग सॉफ्टवेयर की विशेषताओं को ध्यान में रखते हुए इसकी प्रक्रिया को नियमित रूप से अपडेट किया जाता है।

गणितज्ञ, प्रोग्रामर और यहां तक कि मनोवैज्ञानिकों ने भी रैंडम नंबर जेनरेटर के निर्माण में भाग लिया, और इसी तरह के जेनरेटर्स उनके समय-सिद्ध विश्वसनीयता के कारण लंबे समय से मौजूद हैं।

आज इस्तेमाल किया जाने वाला जेनरेटर मैसेच्युसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी में एक प्रोफेसर की परियोजना है जो 128-बिट एमडी5 एल्गोरिथ्म का प्रतिनिधित्व करता है। इसका उपयोग न केवल ऑनलाइन स्लॉट्स में, बल्कि सुरक्षा प्रणालियों और व्यक्तिगत कंप्यूटरों में भी किया जाता है।


क्या आर.एन.जी पर भरोसा किया जा सकता है?

इंटरनेट पर, कोई भी ऐसे प्रोग्राम्स खोज सकता है जो भविष्य के संयोजन का अनुमान लगा सकते हैं, लेकिन वास्तव में वे काम नहीं करते हैं। इस तरह के प्रोग्राम वास्तव में खिलाड़ियों के डेटा को चुरा सकते हैं, इसलिए बेहतर होगा की आप उनसे बचें।

सॉफ्टवेयर का परीक्षण करने से परहेज न करें। सभी जिम्मेदार गेम निर्माता प्रसिद्ध और विश्वसनीय प्रयोगशालाओं में परीक्षण के लिए सॉफ्टवेयर प्रदान करने की रणनीति अपनाते हैं: आई-टेक लैब्स, ई-कोग्रा, जीएलआई और एनएमआई। सॉफ़्टवेयर गंभीर परीक्षणों से गुज़रता है जिसके दौरान कोई भी हेरफेर नहीं की जा सकती है। इसका मतलब यह है कि ऐसे स्लॉट को चलाना सुरक्षित है जो इस तरह के चेक से गुजरे हों:

  • iTech Labs
  • eCOGRA
  • GLI
  • NMi

सॉफ्टवेयर गंभीर जांच से गुजर रहा है, जिसके दौरान किसी भी हेरफेर के उपयोग को रोका जाता है, जिससे यह कहना ठीक होगा कि प्लेइंग स्लॉट विश्वसनीय है।


आर.एन.जी लॉजिक्स

ध्यान देने वाली पहली बात यह है कि स्लॉट मेकेनिज़्म की कोई याद्दाश्त नहीं होती है। कंप्यूटर को यह नहीं पता है कि खिलाड़ी जीत गया है या हार गया है, या उसने 5 मिनट पहले खेलना शुरू किया है या कई घंटों से खेल रहा है। सभी संयोजन गणित की एल्गोरिदम द्वारा निर्धारित किए जाते हैं।

यह महत्वपूर्ण है कि खेल के परिणाम योजनाबद्ध या “तार्किक” न हों: वे केवल संयोजन का एक क्रम हों। एक व्यक्ति लगभग लगातार दो जैकपॉट जीत सकता है, हालांकि यह देखने में मुश्किल लग सकता है। लेकिन इसकी संभावना कम ही है क्योंकि प्रोग्राम द्वारा उत्पन्न संभावित संयोजनों की संख्या बहुत बड़ी है और प्रत्येक में 32 हेक्स कैरेक्टर्स हैं।

जब कोई खिलाड़ी खेल शुरू करता है, तो प्रणाली प्रति मिनट सौ रैंडम नंबर्स देती है जो एक निश्चित संयोजन बनाते हैं। जेनरेटर द्वारा बटन दबाने के समय चुने गए नंबर स्क्रीन पर दिखाई देने वाले कैरेक्टर्स को निर्धारित करते हैं। इस प्रकार, एक खिलाड़ी के खेल को “प्रभावित” करने का एकमात्र तरीका बटन दबाने का समय चुनना है। वास्तव में, यह पूरी तरह किस्मत पर आधारित है। जब परिणाम स्क्रीन पर दिखाई देता है, तो सिस्टम तुरंत गणना करता है कि खिलाड़ी कितना जीता है या हार गया है और उसके बैलेंस में जानकारी को अपडेट करता है। फ्री स्पिंस और बोनस दौर के दौरान भी ये ही सिद्धांत लागू होता है।


निष्कर्ष

अब तक, ऑनलाइन स्लॉट्स के लॉजिक्स इस तथ्य पर आधारित है कि इसमें कोई तर्क ही नहीं है। रैंडम नंबर जेनरेटर को ये इसलिए कहा जाता है क्यूंकि इसमें जीतने की संभावनाएं अनियमित हैं और जीतने का दर किसी विशेष गेम के नियमों पर निर्भर करता है, जिसे ऑपरेटर से सीखा जा सकता है।

“आर्य्टोम उस्टिनोव

आर्य्टोम White Label & Turnkey Solutions के प्रमुख हैं और 10 से अधिक वर्षों से iGaming में जटिल B2B/B2C बिक्री के साथ-साथ व्यवसाय विकास और मैनेजमेंट कंसल्टिंग में काम कर रहे हैं।

प्रमुख-अकाउंट मैनेजमेंट टीम के साथ मिलकर, उन्होंने 100 से अधिक स्टार्ट-अप और अनुभवी गेमिंग कंपनियों को SoftGamings के साथ अपनी योजनाएं शुरू करने में मदद की है। ”

एक टिप्पणी छोड़ें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

नवीनतम समाचार और लेख

बेटसॉफ्ट मोबाइल गेम्स की समीक्षा: 3डी क्रांति (2019 अपडेट)

आधुनिक ऑनलाइन स्लॉट्स में, डेवलपर्स रैंडम नंबर जनरेटर का उपयोग करते हैं। यह कैसे काम करता है? क्या लगातार 2 जैकपॉट जीतना संभव है? इसे लेख से जानें।

मोबाइल गेमिंग

संभावित खिलाड़ियों को आकर्षित करने में मोबाइल कसीनो की भूमिका। मोबाइल और डेस्कटॉप कसीनो के बीच अंतर। एचटीएमएल 5 गेम्स क्या है? मोबाइल कसीनो की गेम्स की पेशकश।

व्हाइट लेबल कसीनो सल्यूशंस: एक ऑनलाइन कसीनो बिज़नेस शुरू करने का सबसे अच्छा तरीका

एक व्हाइट लेबल कसीनो सल्यूशन जो पूर्ण कार्यक्षमता और सेवाओं के साथ बहुत ही कम समय में एक लागत प्रभावी ऑनलाइन कसीनो का व्यवसाय शुरू करने का सबसे अच्छा तरीका है।